पुनर्मनमिलन गीत

roorkee-university

# पुनर्मनमिलन गीत #

(अर्धसदी पर रुड़की-विश्वविद्यालय की स्मृतियाँ)

भागीरथ ले कर आये पावन  गंगाजल  धारा |

   थॉम्प्सन-कॉलेज सिविलज्ञानगंगा हित बना सहारा||

                     जीवन सरिता कर्मों की धारा बन हुई प्रवाहित|

                     यांत्रिक आभियांत्रिकी ज्ञानगंगा में हुई समाहित||

विश्वविद्यालय से आइआइटी अब संस्थान हमारा|

थॉम्प्सन-कॉलेज सिविलज्ञान गंगा हित बना सहारा||

                     हैंगर में साप्ताहिक फिल्मों की थी सदा प्रतीक्षा|

                     दीक्षान्त-समारोह में यहाँही, ली थी अन्तिम-दीक्षा|| 

याद रहेगा सदा शताब्दी द्वार का यही किनारा|

थॉम्प्सन-कॉलेज सिविलज्ञानगंगा हित बना सहारा||

                     गोविन्द-भवन आजाद-भवन रवीन्द्र-भवन के प्रांगन|

                     देख अभी भी रोमांचित हो जाता अपना तन मन||

कर्म-पथ विज्ञान-पथ चल व्यवसायिक लक्ष्य संवारा|

थॉम्प्सन-कॉलेज सिविलज्ञान गंगा हित बना सहारा||

                     कमलानी मनकानी शंकर लाल गुरु थे अपने |

                     गेंधर जी की वर्कशाप आरपी के थर्मल सपने||

अनुशासन में  रहें डीन एस आर सिंह ने हुंकारा |

थॉम्प्सन-कॉलेज सिविलज्ञान गंगा हित बना सहारा||

                     क्लास सीनियर पीके अग्रवाल की बात अजब थी|

                     एनसीसी में एसजी अवस्थी की भी पकड़ गजब थी||

यूनिवर्सटी-सीनियर पंत मधुर-व्यवहार से लगता प्यारा |

थॉम्प्सन-कॉलेज सिविलज्ञान गंगा हित बना सहारा ||

                     नहीं भूलपाते  नवयौवन पर संग  देखे सपने|

                     साथमें खाते पढ़ते खेलते सब लगते थे अपने||

  अर्धसदी पर पुनर्मनमिलन से भर दें रंग  न्यारा |

    थॉम्प्सन-कॉलेज सिविलज्ञान गंगा हित बना सहारा ||

                                                -भगवती प्रसाद गुप्त

2 thoughts on “पुनर्मनमिलन गीत

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s